27 C
Patna
September 25, 2022
Choutha Stambha
Politics( राजनीति)

किसकी होगी जीत आसनसोल उत्तर विधानसभा सीट

श्वेता पान्डे

आखिरकार शिल्पांचल में बीजेपी के 9 सीटों के उम्मीदवारों के भावी प्रत्याशियों के नाम की लिस्ट और अटकलों को विराम लगाते हुए विधानसभा चुनाव के आखिरी चार चरणों के उम्मीदवारों के साथ आसनसोल के दो हाॅट सीट आसनसोल उत्तर और दक्षिण विधानसभा के प्रत्याशियों के नाम की घोषणा भी हो चुकी है और अब चुनावी रणभूमि में आसनसोल नार्थ में टकराएंगे तृणमूल कांग्रेस तथा आसनसोल के धरतीपुत्र कहे जाने वाले सबसे पुराने कद्दावर नेता मलय घटक और कभी उनके करीबी रहे कृष्णेंदु मुखर्जी। वहीं दूसरी ओर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र में तृणमूल की उम्मीदवार है बांग्ला फिल्म अभिनेत्री सायोनी घोष, जिन्होंने हाल ही में तृणमूल का झंडा थामा।बीजेपी ने इस सीट से महिला प्रत्याशी को ही सायोनी के खिलाफ खड़ा किया है। बॉलीवुड की मशहूर फैशन डिजाइनर और बीजेपी की प्रदेश महिला मोर्चा की अध्यक्ष अग्निमित्र पाॅल।

तृणमूल कांग्रेस के मूल से जुड़े पश्चिम बंगाल के श्रम एवं कानून मंत्री तथा आसनसोल नॉर्थ के सिटिंग विधायक मलय घटक के खिलाफ कृष्णेन्दु मुखर्जी को बीजेपी ने चुनावी मैदान में उतारा है। आपको बता दें कि कृष्णेंदु मुखर्जी ने आसनसोल के दक्षिण विधानसभा सीट से आवेदन भरा था। लेकिन उत्तर विधानसभा सीट से टिकट मिलने की घोषणा के बाद लोग दंग रह गए।

एक समय मलय घटक के करीबी रहे व्यवसायी कृष्णेंदु मुखर्जी के साथ आपसी रिश्तो में खटास आने के बाद कृष्णेन्दु मुखर्जी पर केस दर्ज किया गया था। इस कारण उन्हें शहर भी छोड़ना पड़ा था। बाद में मुकुल राय के सानिध्य में भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर वे प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य बने। जिसके बाद से पार्टी के लिए उनकी सक्रियता बढ़ गई।

उधर तृणमूल कांग्रेस के सीटिंग विधायक मलय घटक की पकड़ अपने क्षेत्र में मजबूत है। विशेषकर अल्पसंख्यकों में । तो ऐसा कहा जा सकता है कि यह लड़ाई चुनावी रणभूमि में एक दिलचस्प लड़ाई होगी।

लेफ्ट आई एस एफ और कांग्रेस के गठजोड़ से उत्तर विधानसभा क्षेत्र के लिए आई एस एफ के मोहम्मद मुस्तकीम सिद्धकी को इस क्षेत्र से खड़ा किया गया है। आपको बता दें कि मुस्तकीम सिद्धकी वह शख्स है, जिन्होंने आसनसोल के हटन रोड के करीब एतवार मोड़ पर CAA और NRC के खिलाफ पिछले साल मोर्चा खोला था। जिसमें भारी संख्या में उन्हें अल्पसंख्यकों का समर्थन भी मिला था। मुस्तकीम सिद्धकी की उम्मीदवारी से नाराज कांग्रेस दल के नेताओं ने इसी सीट से मिर्जा रोशन जहां वे उर्फ मुनीर बेग को निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में खड़ा किया है। इन 2 प्रत्याशियों ने भी बीते दिनों में अल्पसंख्यकों के बीच अच्छी जगह बनाई है। तो संभव है कि इस वजह से पिछले विधानसभा चुनाव की तुलना में मलय घटक की झोली में अल्पसंख्यकों के वोट में कटौती हो सकती है। जिसका सीधा फायदा भारतीय जनता पार्टी को होगा।

बहरहाल अब इंतजार इस बात का है कि 26 अप्रैल को आसनसोल के मतदाता क्या तय करेंगे? विधानसभा के दोनों सीटों पर किसका पलड़ा भारी होता है और किसके खाते में कितने वोट आते हैं?

Related posts

क्या आसनसोल में तृणमूल की टक्कर में बीजेपी उतारेगी अपना महिला उम्मीदवार?

news

बाहरी बनाम मूल निवासी की लड़ाई में आसनसोल साउथ में किसकी होगी जीत

news

टीएमसी ने अपने घोषणापत्र के लोक लुभावने वायदों में महिलाओं की आर्थिक मजबूती को दिया तवज्जो

news

4 comments

Leave a Comment

WhatsApp chat